Primary ka Master & UPTET News

Read Latest Basic Shiksha News in Hindi only on TETNEWS

May 24, 2021

बच्चों के भविष्य को देखते हुए 12वीं की बोर्ड परीक्षाएं रद नहीं होंगी

 

बच्चों के भविष्य को देखते हुए 12वीं की बोर्ड परीक्षाएं रद नहीं होंगी। दिल्ली, महाराष्ट्र और केरल को छोड़कर ज्यादातर राज्यों ने भी 12वीं की बोर्ड परीक्षाएं कराने का सुझाव दिया है। इन राज्यों ने रविवार को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की अगुआई में बुलाई गई उच्चस्तरीय बैठक में अपनी यह राय दी। केंद्र सरकार ने कहा है कि वह परीक्षाओं को लेकर छात्रों और अभिभावकों में पैदा हुए असमंजस को जल्द ही खत्म करेगी। एक जून या उससे पहले ही इसे लेकर निर्णय हो जाएगा और तिथि भी आ जाएगी।


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के निर्देश पर रविवार को 12वीं की बोर्ड परीक्षाओं सहित प्रतियोगी और प्रवेश परीक्षाओं को लेकर रक्षा मंत्री की अगुआई में बैठक बुलाई गई थी। इसमें केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक, केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी, सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावडेकर के साथ ही राज्यों के मुख्यमंत्री, उपमुख्यमंत्री, शिक्षा मंत्री सहित राज्यों के शिक्षा सचिव, सीबीएसई, नेशनल टे¨स्टग एजेंसी (एनटीए) और केंद्रीय शिक्षा मंत्रलय के वरिष्ठ अधिकारी आदि मौजूद थे। करीब तीन घंटे चली इस बैठक में परीक्षा कराने के विकल्पों को लेकर राय अलग-अलग थी। 12वीं की बोर्ड परीक्षाएं कराने को लेकर राज्यों के साथ रखी गई इस बैठक में परीक्षा के विकल्पों पर भी लंबी चर्चा हुई। परीक्षाओं के लिए स्वकेंद्र रखने पर सहमति बनी। साथ ही परीक्षाओं को तीन घंटे से कम समय यानी डेढ़ घंटे में कराने की बात हुई।

इस दौरान प्रश्नपत्र बहु-विकल्पीय रखने या फिर कुछ प्रमुख विषयों की ही परीक्षा कराने जैसे सुझाव दिए गए। इस दौरान यह राय भी दी गई कि छात्रों से पूछकर ही परीक्षा वाले विषयों का चयन किया जाए। बाकी विषयों में उनके प्रदर्शन के आकलन के आधार पर अंक दिए जाएं। इस दौरान सीबीएसई ने भी राज्यों के सामने परीक्षा के दो विकल्प रखे। शिक्षा मंत्रलय से जुड़े सूत्रों की मानें तो 12वीं की बोर्ड परीक्षाओं के आधार पर ही प्रतियोगी और प्रवेश परीक्षाओं को लेकर रोडमैप तैयार किया जाएगा। इसका एलान भी एक जून के बाद किया जाएगा। इस बीच एनटीए से प्लान मांगा गया है।

12 वीं की बोर्ड परीक्षाओं को लेकर वीडियो कांफ्रेंसिंग से रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने शिक्षा मंत्री डा. रमेश पोखरियाल निशंक सहित राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक की ’ प्रेट्र

’>>दिल्ली, महाराष्ट्र व केरल को छोड़कर ज्यादातर राज्य परीक्षाएं कराने के पक्ष में

’>>स्वकेंद्र, समय कम रखने सहित बहु-विकल्पीय तरीके से परीक्षा कराने जैसे प्रस्तावों पर हुई चर्चा

राज्यों से 25 मई तक मांगे गए सुझाव

केंद्रीय शिक्षा मंत्री निशंक ने सभी राज्यों से इस संबंध में 25 मई तक विस्तृत राय देने को कहा है। राज्यों की राय के आने के बाद पूरी रिपोर्ट प्रधानमंत्री के सामने रखी जाएगी। माना जा रहा है कि राज्यों को अपनी सुविधा के आधार पर विकल्प चुनने की छूट दी जाएगी।

बच्चों के भविष्य को देखते हुए 12वीं की बोर्ड परीक्षाएं रद नहीं होंगी Rating: 4.5 Diposkan Oleh: tetnews

0 comments:

Post a Comment