May 22, 2021

बड़ा बदलाव:- विश्वविद्यालयों में शिक्षक भर्ती के लिए अब होगी लिखित परीक्षा, अभ्यर्थी को कक्षा पढ़ाने का प्रस्तुतिकरण भी देना होगा, इस तरह मिलेंगे अंक

 

लखनऊ : प्रदेश के विश्वविद्यालयों में अब शिक्षक पद पर भर्ती के लिए लिखित परीक्षा होगी और अभ्यर्थी को कक्षा पढ़ाने का प्रस्तुतिकरण भी देना होगा। लिखित परीक्षा में बहुविकल्पीय सवाल पूछे जाएंगे। राज्यपाल व कुलाधिपति आनंदीबेन पटेल के निर्देश पर विश्वविद्यालयों में शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया में बड़ा बदलाव किया गया है। अब साक्षात्कार व शैक्षिक योग्यता आदि के भी अंक निर्धारित कर दिए गए हैं। लिखित परीक्षा सिर्फ असिस्टेंट प्रोफेसर के पद पर भर्ती के लिए होगी। एसोसिएट प्रोफेसर व प्रोफेसर पद के लिए लिखित परीक्षा नहीं होगी। भर्ती परीक्षा कुल 100 अंकों की होगी। साक्षात्कार की वीडियोग्राफी कराई जाएगी और कुलपति इसका वीडियो तीन महीने तक सुरक्षित रखेंगे।


अभी तक असिस्टेंट प्रोफेसर, एसोसिएट प्रोफेसर और प्रोफेसर पद पर शैक्षिक योग्यता व साक्षात्कार के माध्यम से कुलपति व एक्सपर्ट कमेटी भर्ती करती थी। शिक्षक पद पर भर्ती के लिए न तो कोई लिखित परीक्षा होती थी और न ही शैक्षिक योग्यता व साक्षात्कार के अंक निर्धारित होते थे। ऐसे में कई बार भर्ती प्रक्रिया पर सवाल खड़े किए जाते थे। कुलाधिपति ने विश्वविद्यालयों में शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया में बदलाव के लिए कुलपतियों के साथ बीती पांच अक्टूबर 2020 को बैठक की थी। इसके बाद अब भर्ती प्रक्रिया में बड़ा बदलाव किया गया है। बेसिक एकेडमिक स्कोर व एपीआइ (एकेडमिक परफार्मेंस इंडीकेटर्स) के अंकों की मेरिट प्रदर्शित की जाएगी। यह मेरिट लिस्ट परीक्षा नियंत्रक तैयार करेगा। अभ्यर्थी ई मेल के माध्यम से सात दिनों के अंदर इस पर आपत्ति कर सकेंगे। आपत्तियों का निस्तारण कमेटी करेगी और अगर आपत्ति सही है तो संशोधित मेरिट सूची जारी होगी।

वहीं लिखित परीक्षा का परिणाम उसी दिन घोषित होगा और प्रश्नों पर आपत्ति के लिए तीन दिन का समय दिया जाएगा। एक पद के लिए 10 गुना अभ्यर्थी आमंत्रित किए जाएंगे और आगे के चरणों के लिए पांच गुना अभ्यर्थी बुलाए जाएंगे।

20 विद्यार्थियों को पीपीटी की मदद से पढ़ाकर दिखाना होगा : विश्वविद्यालय में शिक्षक पद पर भर्ती के लिए अभ्यर्थियों को 15 से 20 विद्यार्थियों को पावर प्वाइंट प्रेजेंटेशन (पीपीटी) की मदद से पढ़ाकर दिखाना होगा। इस दौरान एक्सपर्ट कमेटी यह देखेगी कि अभ्यर्थी को विषय के बारे में कितना ज्ञान है।

एसोसिएट प्रोफेसर और प्रोफेसर की भर्ती में साक्षात्कार के होंगे अंक

राज्य ब्यूरो, लखनऊ : विश्वविद्यालयों में असिस्टेंट प्रोफेसर पद पर भर्ती के साथ-साथ एसोसिएट प्रोफेसर व प्रोफेसर के पदों पर भर्ती के लिए भी साक्षात्कार, शैक्षिक योग्यता व एपीआइ के अंक निर्धारित किए गए हैं। राजभवन ने विश्वविद्यालयों में भर्ती प्रक्रिया को पूरी तरह पारदर्शी बनाने के लिए यह कदम उठाया है। विश्वविद्यालयों में एसोसिएट प्रोफेसर व प्रोफेसर पद की लिखित परीक्षा तो नहीं होगी लेकिन साक्षात्कार 100 अंकों का होगा। इसमें स्नातक, स्नातकोत्तर व एमफिल या समतुल्य डिग्री के आधार पर बेसिक अकादमिक स्कोर के 20 अंक होंगे। वहीं विश्वविद्यालय अनुदान आयोग द्वारा निर्धारित व्यवस्था के अनुसार एकेडमिक परफार्मेंस इंडीकेटर्स (एपीआइ) स्कोर के 60 अंक होंगे और साक्षात्कार के 20 अंक होंगे। इससे साक्षात्कार व्यवस्था पारदर्शी होगी।

असिस्टेंट प्रोफेसर : इस तरह मिलेंगे अंक

विषय>>अंक

1. लिखित परीक्षा -20 अंक

2. शिक्षण कौशल की जानकारी के लिए प्रस्तुतिकरण व कम्प्यूटर ज्ञान -20 अंक

3. स्नातक, स्नातकोत्तर, एमफिल तथा समतुल्य डिग्री के आधार पर बेसिक अकादमिक स्कोर -20 अंक

4. विश्वविद्यालय अनुदान आयोग द्वारा निर्धारित व्यवस्था के अनुसार एपीआइ -30 अंक

5. साक्षात्कार -10 अंक

बड़ा बदलाव:- विश्वविद्यालयों में शिक्षक भर्ती के लिए अब होगी लिखित परीक्षा, अभ्यर्थी को कक्षा पढ़ाने का प्रस्तुतिकरण भी देना होगा, इस तरह मिलेंगे अंक Rating: 4.5 Diposkan Oleh: tetnews

0 comments:

Post a Comment