Sep 24, 2021

पिछड़े वर्ग की जाति आधारित जनगणना कठिन और दुष्कर

 पिछड़े वर्ग की जाति आधारित जनगणना प्रशासनिक रूप से कठिन और दुष्कर कार्य है। इस तरह की सूचनाओं से दूर रहना बुद्धिमत्तापूर्ण नीतिगत फैसला है। केंद्र सरकार ने यह बात सुप्रीम कोर्ट में कही है। पिछड़े वर्ग के अंतर्गत आने वाली जातियों के लोगों की गणना की मांग को लेकर हाल ही में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार दस दलों के प्रतिनिधिमंडल के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिले थे।



केंद्र सरकार ने अपने शपथ पत्र में कहा है कि 2011 में हुई सामाजिक-आर्थिक और जाति आधारित जनगणना के आंकड़े गलतियों और अवास्तविक सूचनाओं से भरे हुए थे। यह शपथ पत्र महाराष्ट्र सरकार की उस याचिका के जवाब में दिया गया है जिसमें राज्य की सामाजिक-आर्थिक और जाति आधारित जनगणना 2011 के मूल आंकड़े दिलवाने की मांग की गई है। याचिका में कहा गया है कि केंद्र सरकार और जनगणना से संबंधित एजेंसियों से तमाम बार की मांग के बावजूद ये आंकड़े नहीं मिल पाए हैं। इसलिए शीर्ष न्यायालय में याचिका दायर करनी पड़ी है।

केंद्र सरकार की ओर से सामाजिक न्याय एवं सशक्तीकरण मंत्रलय के सचिव ने सुप्रीम कोर्ट में शपथ पत्र दाखिल किया है। उसमें कहा गया है कि केंद्र सरकार ने जनवरी 2020 में अधिसूचना जारी कर 2021 की प्रस्तावित जनगणना के लिए कई तरह की सूचनाओं को एकत्र कराया था।

पिछड़े वर्ग की जाति आधारित जनगणना कठिन और दुष्कर Rating: 4.5 Diposkan Oleh: tetnews

0 comments:

Post a Comment