Oct 3, 2021

हाईकोर्ट की फटकार पड़ी तो सहायता प्राप्त माध्यमिक विद्यालय में 48 घंटे में मिल गया स्कूल

 
हाईकोर्ट की फटकार पड़ी तो सहायता प्राप्त माध्यमिक विद्यालय में प्रवक्ता गणित के पद पर चयनित सुमित श्रीवास्तव को 48 घंटे में स्कूल आवंटित हो गया। माध्यमिक शिक्षा विभाग के अफसरों ने न सिर्फ रिक्त पद खोज लिया बल्कि माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन बोर्ड ने दोबारा नियुक्ति आदेश भी जारी कर दिया।


यह तेजी देखकर तैनाती से वंचित 300 से अधिक चयनित शिक्षक हैरान हैं। उन्होंने सवाल किया है कि क्या तैनाती के लिए भी हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया जाए। सुमित श्रीवास्तव का चयन प्रवक्ता गणित 2016 के पद पर पं. जवाहर लाल नेहरू स्मारक इंटर कॉलेज खजुरहट अयोध्या में 9 जुलाई 2020 को हुआ था।

डीआईओएस अयोध्या ने 23 जुलाई को चयन बोर्ड को सूचित किया कि उस पद पर भूपेश तिवारी पहले से काम कर रहे हैं और जिले में कोई पद खाली नहीं है। चयन बोर्ड का कहना था कि उसके पास रिक्त पद न होने से तैनाती नहीं कर सकता। इससे परेशान सुमित ने हाईकोर्ट में याचिका कर दी। 29 सितंबर को कोर्ट ने तत्काल समायोजन कर 30 सितंबर तक रिपोर्ट देने के आदेश दिए। आनन-फानन में अपर शिक्षा निदेशक माध्यमिक ने 29 सितंबर को सभी मंडलीय संयुक्त शिक्षा निदेशक और डीआईओएस को पत्र लिखकर 30 सितंबर को रिक्त पद की सूचना भेजने के आदेश दिए थे।

जिसके बाद राष्ट्रीय शिक्षा सदन इंटर कॉलेज झिंझाना शामली में खाली पद मिल गया और चयन बोर्ड के उपसचिव नवल किशोर ने एक अक्तूबर को सुमित श्रीवास्तव के उस पद पर समायोजन का आदेश भी जारी कर दिया। यानि रिक्त पद की सूचना मांगने और समायोजन आदेश जारी होने में मात्र 48 घंटे लगे।

सुमित की तरह सैकड़ों चयनित कॉलेज आवंटन के 14 महीने बाद भी ठोकरें खा रहे हैं। लेकिन कुछ नहीं हुआ। मनोज त्यागी का चयन प्रवक्ता शिक्षाशास्त्रत्त् के पद पर सरजू प्रसाद इंटर कॉलेज कुंडा प्रतापगढ़ में हुआ था। वहां पहले से तदर्थ शिक्षक होने से डीआईओएस ने 22 सितंबर 2020 को ज्वाइन कराने से इनकार कर दिया। अखिलेश का चयन प्रवक्ता नागरिक शास्त्रत्त् के पद पर जगदगुरु शंकराचार्य इंटर कॉलेज मेहदावल संतकबीरनगर में हुआ था। वहां एक अभ्यर्थी का पहले ही समायोजन होने से 18 अगस्त 2020 को डीआईओएस ने कार्यभार ग्रहण कराने से इनकार कर दिया। प्रिंसी देवी का चयन प्रशिक्षित स्नातक हिंदी के लिए श्रीराम पाल सिंह कनौजिया उच्चतर माध्यमिक विद्यालय हरदोई में हुआ था। पिछड़ी जाति का कोटा पूरा होने से डीआईओएस ने 21 जून 2021 को लौटा दिया। इसी प्रकार रानू वर्मा की नियुक्ति प्रवक्ता रसायन विज्ञान के पद पर मूर्ति देवी इंटर कॉलेज बिजनौर में हुई थी। लेकिन अल्पसंख्यक विद्यालय होने से 7 अगस्त 2020 को डीआईओएस ने कार्यभार ग्रहण कराने से इनकार कर दिया।

हाईकोर्ट की फटकार पड़ी तो सहायता प्राप्त माध्यमिक विद्यालय में 48 घंटे में मिल गया स्कूल Rating: 4.5 Diposkan Oleh: tetnews

0 comments:

Post a Comment