28 नव॰ 2021

लंच की घंटी बजते ही बच्चे खुश हो कर शोर शराबे शुरू कर देते

 कौशांबी। लंच की घंटी बजते ही बच्चे खुश हो कर शोर शराबे शुरू कर देते हैं। साथ अपनी थाली लेकर मध्यान भोजन के लिए स्कूल परिसर में बने किचन शेड में बैठ जाते हैं। और रसोईयां उन्हें खाना परोसती हैं। भोजन के बाद बचे समय में बच्चे खेलने में जुट जाते हैं, लेकिन अधिकांश स्कूलों में लंच के साथ ही शिक्षक भी गायब हो जाते हैं। पाठ पाठन लंच की छुट्टी तक ही कराया जाता है। इसकी हकीकत जानने के लिए शुक्रवार को दैनिक जागरण टीम ने बलहेपुर और रेही प्राथमिक विद्यालय की प्रड़ताल की तो सच्चाई सामने आ गई।



जनपद के 1090 परषदीय विद्यालय में सुबह नौ बजे से शाम तीन बजे तक पाठ पाठन कराया जा रहा है। जिसमें दोपहर 12 बजे से 12:30 तक मध्यान भोजन के लिए छुट्टी रहती है। उसके बाद पुन: अध्ययन कार्य शुरू होने का प्रावधान है, लेकिन अधिकांश स्कूलों में लंच की छुट्टी के बाद पढ़ाई ही नहीं कराई जाती है। इसकी प्रड़ताल करने शुक्रवार को दैनिक जागरण टीम दोपहर 1:30 बजे रेही प्राथमिक विद्यालय पहुंची। वहां पर सभी स्कूली बच्चे परिसर में खेल रहे थे। एक कमरे में प्रधानाध्यपक आनंद बिहारी कुछ बच्चों को पढ़ा रहे थे। बीएलओ ड्यूटी में लगे सर्वेश सिंह मतदाता सूची का कार्य देख रहे थे। शिक्षिका राधा सिंह भी विद्यालय में बैठी थी। जबकि शिक्षक मगन सिंह स्कूल से नदारद मिले। स्कूल के अधिकांश बच्चे खेल में मस्त थे। इसी प्रकार प्राथमिक विद्यालय बलहेपुर में स्कूल बच्चे आंगन में खेल रहे थे। बीएलओ ड्यूटी में लगे विमल कुमार कुशवाहा अपने कार्य में जुटे थे। राजकुमारी सिंह एक कक्षा में थी। शिक्षिका अर्चना गुप्ता, शिक्षक रामबदन, चंद्रशेखर गायब थे। प्रधानाध्यपक के मुताबिक चंद्रशेखर सीएल और रामबदन मेडिकल छुट्टी व अर्चना गुप्ता मातृत्व अवकाश पर हैं। स्कूल में मौजूद अध्यापकों ने बताया कि शिक्षकों के अभाव में बच्चों का पाठ पाठन प्रभावित हो रहा है। पानी की किल्लत, भटकने पर मजबूर हैं, बच्चे और शिक्षक



बीआरसी नेवादा के प्राथमिक विद्यालय रेही के परिसर में लगा सबमरसिबल व हैंडपंप खराब हो गया है। इससे स्कूल के बच्चों और अध्यापकों को पानी के लिए इधर -उधर भटकना पड़ता है। इससे शौचालय जहां शो पीस बन गया । वहीं पानी के अभाव में मध्यान भोजन भी बनाने में परेशानी हो रही है। शिक्षकों ने इसकी शिकायत ब्लाक के अधिकारियों से किया, लेकिन ध्यान नहीं दिया गया है।

लंच की घंटी बजते ही बच्चे खुश हो कर शोर शराबे शुरू कर देते Rating: 4.5 Diposkan Oleh: TET NEWS

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें