Dec 8, 2021

‘मिड डे मील की गुणवत्ता पर सवाल उठाना जुर्म’

 लखनऊ : आम आदमी पार्टी (आप) के यूपी प्रभारी व राज्य सभा सदस्य संजय सिंह ने कानपुर के सरसी गांव में स्थित प्राथमिक विद्यालय में घटिया मिड डे मील खाने से बीमार हुए 51 विद्यार्थियों और मुजफ्फर नगर में बेटियों से साथ हुई छेड़छाड़ के मामले में राज्य सरकार को कठघरे में खड़ा किया है। उन्होंने कहा कि मिड डे मील के नाम पर बच्चों की थाली में कभी नमक रोटी परोसी जाती है तो कभी खाने में छिपकली निकलती है, लेकिन कोई ठोस कार्रवाई नहीं होती। उल्टा मिड डे मिल की गुणवत्ता पर सवाल उठाने को जुर्म समझा जाता है। सवाल उठाने पर यहां सजा मिलती है। आखिर मासूम बच्चों की जिंदगी के साथ क्यों खिलवाड़ किया जा रहा है।



उन्होंने इस घटना के साथ-साथ मुजफ्फर नगर में परीक्षा दिलाने के नाम पर 17 बेटियों को नशीला पदार्थ खिलाकर की गई छेड़खानी के मामले पर भी सरकार को घेरा।

मंगलवार को इन दोनों ही घटनाओं को लेकर उन्होंने ट्वीट और सरकार से उच्च स्तरीय कमेटी गठित कर आरोपितों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की।

‘मिड डे मील की गुणवत्ता पर सवाल उठाना जुर्म’ Rating: 4.5 Diposkan Oleh: tetnews

0 comments:

Post a Comment