27 जन॰ 2022

शिक्षा प्रणाली को नवीन रूप दे सकता है नवाचार, BSA ने कही यह बात

 बरेली: श्री अरविंद सोसाइटी और समग्र शिक्षा की ई-प्रदर्शनी में बरेली के शिक्षकों ने शून्य निवेश पर आधारित अपने नवाचारों को देश भर के शिक्षकों के साथ साझा किया। शिक्षिका नम्रता वर्मा, नीता जोशी, सीमा मलिक, संगीता, दीपाली सक्सेना, मधुरेश दीक्षित, महावीर प्रसाद, दीपमाला पांडे, पूजा शर्मा, सपना वर्मा, अंशु अग्रवाल, मिथिलेश यादव, रुचि सैनी, डॉ. अल्पना गुप्ता, पुष्पा अरुण, मोनिका गुप्ता, भावना सक्सेना, अल्पना सक्सेना के नवाचार को काफी पसंद किया गया।




मुख्य अतिथि डायट प्राचार्य मुन्ने अली ने कहा इस कार्यक्रम से शैक्षणिक योग्यता के विकास में मदद मिलेगी। बीएसए विनय कुमार ने कहा जिले के शिक्षक लगातार नवाचार कर रहे हैं। एसआरजी डॉ. लक्ष्मी शुक्ला ने कहा जब शिक्षक सक्रिय रूप से नवाचार करने के लिए प्रेरित होते हैं तो वे पूरी शिक्षा प्रणाली को एक नया रूप दे सकते हैं। एसआरजी डॉ. अनिल चौबे ने कहा ई-प्रदर्शनी मंच से शिक्षकों का मनोबल निश्चित रूप से ऊंचा होगा। श्री अरविंद सोसाइटी के राष्ट्रीय प्रशिक्षण प्रमुख अशोक शर्मा ने कहा नवाचार वह परिवर्तन है जो पूर्व स्थित विधियों और पदार्थ आदि में नवीनता का संचार करता है। शून्य निवेश नवाचार कार्यक्रम के डिस्ट्रिक्ट कोऑर्डिनेटर विवेक भारद्वाज का ई-प्रदर्शनी के आयोजन में विशेष योगदान रहा।

शिक्षा प्रणाली को नवीन रूप दे सकता है नवाचार, BSA ने कही यह बात Rating: 4.5 Diposkan Oleh: TET NEWS

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें