17 फ़र॰ 2022

निजी स्कूलों को पीछे छोड़ फर्राटे से इंग्लिश बोल रहे इस जिले के परिषदीय अंग्रेजी माध्यम स्कूलों के बच्चे

 

प्रयागराज, पढ़ाई और पानी की गुणवत्ता व उपलब्धता को लेकर आपकी शिकायतें हो सकती हैैं लेकिन यह भी सच है कि पिछले पांच साल में प्रतापगढ़ में स्कूलों की बिल्डिंग कायाकल्प योजना में लकदक तो हुई ही, पठन-पाठन की गुणवत्ता भी सुधरी। हाल यह है कि परिषदीय मॉडल अंग्रेजी माध्यम स्कूलों के बच्चे कई जगह कान्वेंट स्कूलों के विद्यार्थियों की तरह फर्राटे के साथ अंग्रेजी बोलते हैं। इतना ही नहीं यू-ट्यूब पर अपने वीडियो भी अपलोड कर रहे हैं। दैनिक जागरण टीम की रिपोर्ट यह है।


कायाकल्‍प योजना ने परिषदीय स्‍कूलाें की तस्‍वीर बदली

प्राथमिक स्कूलों के लिए कायाकल्प योजना ने स्कूलों की तस्वीर बदली है। प्रतापगढ़ में विश्वनाथगंज विधानसभा क्षेत्र के देवली गांव के ग्राम प्रधान मनोज सिंह का दावा है कि उन्होंने ग्राम सभा में स्थित सभी विद्यालयों को कायाकल्प योजना में 19 मूलभूत सुविधाओं से संतृप्त कर दिया है। इसी विधानसभा क्षेत्र के डा. अशोक अग्रहरि बताते हैं कि माडल पूर्व माध्यमिक विद्यालय कटरा गुलाब सिंह में तैनात राज्य पुरस्कार प्राप्त शिक्षक मोहम्मद फरहीम ने स्कूल में ऐसे सिस्टम लगाए हैं कि जिनसे लखनऊ में बैठे अधिकारी पठन-पाठन पर नजर रख सकते हैैं। कोरोना संकट काल में उन्होंने बच्चों के मोबाइल में स्वयं से रिचार्ज करा कर उनकी पढ़ाई जारी रखवाई। इसी विधानसभा क्षेत्र के मतदाता आलोक आजाद बताते हैैं कि पूर्व माध्यमिक विद्यालय मल्हूपुर के राज्य पुरस्कार प्राप्त शिक्षक श्याम प्रकाश मौर्य के प्रयासों से विद्यार्थी ऑनलाइन वीडियो बनाकर पठन-पाठन को यूट््यूब पर अपलोड कर रहे हैं। त्रिभुवन नाथ उपाध्याय प्राथमिक विद्यालय मानधाता के शिक्षक अखिलेश पांडेय के कायल हो चले हैैं। रंजीत कुमार ङ्क्षसह बताते हैैं कि राजकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय सराय आना देव के शिक्षक अनिल कुमार निलय ने कोरोना काल में मास्क बैंक स्थापित किया था।ष्‍

लोगों का यह कहना है

माडल पूर्व माध्यमिक विद्यालय कटरागुलाब सिंह में बच्चों के लिए सभी मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध हैं। हाईटेक शिक्षण व्यवस्था, डिजिटल स्मार्ट क्लास, 16 सीसीटीवी, स्मार्ट टीवी के साथ-साथ खेल कूद, स्काउट तथा विभिन्न विभागीय प्रतियोगिताओं में भी यहां के बच्चे प्रदेश में नाम रोशन कर रहे हैं।

-मो. फरहीम

हमारे स्कूल के विद्यार्थियों को राज्य विज्ञान प्रदर्शनी में राज्य में प्रथम स्थान मिला। पहली पुस्तक लॉकडाउन पॉजिटिव राज्य पुरस्कार में चयनित हुई। कोरोना,मिशन शक्ति,सड़क सुरक्षा,ऊर्जा संरक्षण,भू जल संरक्षण,मतदान सहित अन्य जागरूकता अभियानों से संबंधित स्वरचित स्लोगन दीवारों पर स्वयं पेंट करने का नवाचार किया गया।


निजी स्कूलों को पीछे छोड़ फर्राटे से इंग्लिश बोल रहे इस जिले के परिषदीय अंग्रेजी माध्यम स्कूलों के बच्चे Rating: 4.5 Diposkan Oleh: TET NEWS

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें